Adani-Hindenburg मामले अडानी को SC से बड़ी राहत, SEBI की जांच में दखल देने से किया इनकार

Adani-Hindenburg मामले अडानी को SC से बड़ी राहत

बिजनेस टाइकून गौतम अडानी के लिए आज का दिन बेहद खास हो सकता है। क्योंकि सुप्रीम कोर्ट आज अडानी हिंडनबर्ग मामले में अपना फैसला सुनाएगा। इस मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने सेबी की जांच को उचित ठहराया है। आपको बता दें, कोर्ट ने इस पूरे मामले की जांच करने के लिए 3 महीने का टाइम दिया गया है।

हम आपको याद दिला दें कि कोर्ट ने फैसले को नवंबर 2023 तक के लिए टाल दिया था और आज इसपर फैसला सुनाया जाएगा। अडानी हिंडनबर्ग मामले में फैसला सुनाते हुए CJI डीवाई चंद्रचूड़ की तीन जजों की बेंच ने कहा कि सेबी ने जांच में किसी भी तरह की अनियमितता का खुलासा नहीं किया है. 24 मामलों में जांच की मांग की गई है और सेबी इन दोनों मामलों में तीन महीने के भीतर जांच करेगा।

कोर्ट ने SEBI जांच किया अप्रूव

अदालत ने विशेषज्ञ आयोग के सदस्यों के बारे में सवालों को खारिज कर दिया। हितों के टकराव के संबंध में आवेदक के तर्क निरर्थक हैं। अदालत ने कहा कि बिना उचित कारण के यातायात पुलिस से जांच स्थानांतरित करने का कोई आधार नहीं है। सेबी की जांच पर संदेह करना या मीडिया रिपोर्टों के आधार पर निष्कर्ष निकालना गलत है।

कोर्ट ने किस आधार पर सुनाया जजमेंट

सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले के पीछे कई कारण बताए. उन्होंने कहा कि OCCPR रिपोर्ट के आधार पर सेबी की जांच पर सवाल नहीं उठाया जा सकता।

साथ ही SC (सुप्रीम कोर्ट) ने भारत सरकार और सेबी को भारतीय निवेशकों के हित को बढ़ाने के लिए विशेषज्ञ समिति की सिफारिशों पर काम करने का भी निर्देश दिया।

हिंडनबर्ग रिपोर्ट कब प्रस्तुत की गई थी?

24 जनवरी 2023 को अमेरिकी व्यापारी हिंडनबर्ग ने गौतम अडानी की सभी कंपनियों पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई. अडानी ग्रुप ने इस रिपोर्ट को पूरी तरह गलत करार कर दिया था।

बताते चले की इस रिपोर्ट के आने के बाद अडानी ग्रुप के सभी शेयरों में बड़ी तेजी से गिरावट दर्ज की गई थी। इतना ही नहीं गौतम अडानी की की संपत्ति को भी तगड़ा नुकसान झेलना पड़ा था। जिसके चलते ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा, जिसका फैसले आज किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *