लाडली बहन योजना: हर महीने खाते में कितना पैसा आता है और कैसे मिलेगा फायदा?

लाडली बहन योजना: हर महीने खाते में कितना पैसा आता है और कैसे मिलेगा फायदा?

मध्य प्रदेश में एक बार फिर बीजेपी भारी बहुमत के साथ सरकार बनाने को तैयार है. मध्य प्रदेश में बीजेपी की इस शानदार जीत का श्रेय महिलाओं को गया. आजकल हर जगह ‘लाडली बहना योजना’ के बारे में बात कर रहे हैं। हम आपको बताएंगे कि इस प्रोग्राम के तहत हर महीने कितना पैसा मिलेगा।

मध्य प्रदेश में बीजेपी एक बार फिर प्रचंड जीत के साथ वापस आई है. जनता शिवराज सिंह चौहान को दोबारा सीएम बनाने के लिए तैयार है। प्रदेश में भाजपा की जीत का मुख्य कारण उसकी प्रिय बहनें हैं। इन महिलाओं की बदौलत ही शिवराज सिंह चौहान “मामा” दोबारा सीएम चुने गए। दरअसल, भारतीय जनता पार्टी की लाडली ब्राह्मण योजना से सैकड़ों-हजारों महिलाओं को सीधे तौर पर मदद मिली है। इस कार्यक्रम के तहत राज्य की महिलाओं को वित्तीय सहायता प्राप्त होती है। अब तक करीब सवा करोड़ महिलाएं इससे लाभान्वित हो चुकी हैं। ऐसे में कृपया बताएं कि इस योजना से इस महिला के खाते में हर महीने कितने पैसे जमा होंगे…

इतने मिलते हैं रुपए

प्राप्त राशि से महिलाएं अपने स्वास्थ्य और अपने बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार कर सकेंगी। इस योजना के तहत कुल 1,25,33,145 महिलाओं ने आवेदन किया है, जिनमें से 1,25,05,947 महिलाओं को इस योजना का लाभ मिलेगा। लाडली बहना के तहत महिलाओं को 1,000 रुपये मासिक दिए जाते हैं, यानी प्रत्येक महिला को सहायता के लिए प्रति वर्ष 12,000 रुपये मिलते हैं।

किसे मिलता है फायदा

मध्य प्रदेश में लागू इस योजना का लाभ सभी वर्ग की महिलाओं को दिया गया है। अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन जाती, अल्पसंख्यक, परित्यक्त महिलाएं और विधवाएं, चाहे वे सामान्य वर्ग से हों या पिछड़े वर्ग से, उन्हें भी इस योजना का लाभार्थी माना जाता है। इस योजना के अनुसार 21 से 60 वर्ष की महिलाएं इस योजना का लाभ उठा सकती हैं।

इन डाक्यूमेंट्स की होगी जरुरत

लाडली ब्राह्मण योजना का लाभ उठाने के लिए आपको आधार कार्ड और एक फोटो की आवश्यकता होगी। अपने बैंक खाते का विवरण प्रदान करने के अलावा, आपको अपना मोबाइल नंबर और पते का प्रमाण भी देना होगा। इसके अलावा आपको अपना जन्म प्रमाण पत्र भी संलग्न करना होगा।

इन 2 बातों का रखें ध्यान

  • लाडरी ब्राह्मण योजना के लिए यह बहुत जरूरी है कि लाभार्थी मध्य प्रदेश का निवासी हो।
  • स्कूलों और विश्वविद्यालयों में पढ़ने वाली लड़कियों और महिलाओं को इस प्रणाली से बाहर रखा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *