भारतीय क्रिकेट टीम के खिलाड़ी या कोच नहीं, बल्कि इस शख्स ने सबसे पहले उठाई Asia Cup 2023 कि Trophy!

This person was the first to lift the Asia Cup 2023 trophy!

भारतीय क्रिकेट टीम ने Asia Cup 2023 के फाइनल में अपना शानदार प्रदर्शन करते हुए यह खिताब अपने नाम किया है। भारतीय क्रिकेट टीम ने रोहित शर्मा की कप्तानी में श्रीलंका को मात्र 50 रन पर ढेर कर दिया। इस पारी में अपनी गेंदबाजी का जादू दिखाते हुए मोहम्मद सिराज ने 21 रन देकर 6 विकेट लिए और मैच के स्टार बने । भारत ने आखिरी बार यह टूर्नामेंट 2018 में जीता था। 2023 में यह भारत की सर्वश्रेष्ठ जीतों में से एक है।

Asia Cup 2023 का ख़िताब अपने नाम करने के बाद जश्न के दौरान भारतीय क्रिकेट टीम के कई खिलाड़ियों ने ट्रॉफी उठाई। 20 वर्षीय तिलक वर्मा ट्रॉफी उठाने वाले पहले लोगों में से एक थे। भारतीय क्रिकेट में सबसे युवा या सबसे नए खिलाड़ी को ट्रॉफी जीतने का मौका देना एक परंपरा है। लेकिन आपको बता दें, वह टीम में न ही कोई खिलाड़ी,न कोच और न ही फिजियो। तो, आइये जानते हैं कि यह टीम मेंबर आखिर कौन है-

भारतीय टीम के महत्वपूर्ण सदस्य

बता दें, सबसे पहले ट्रॉफी उठाने वाले यह शख्स, भारतीय टीम के एक बहुत ही महत्वपूर्ण सदस्य है। इनका नाम रघु राघवेंद्र है और यह टीम में ‘थ्रो-डाउन स्पेशलिस्ट’ का कार्य करते है। टीम में ‘थ्रो-डाउन स्पेशलिस्ट’ का काम नेट्स पर भारतीय बल्लेबाजों को स्लिंगर से थ्रो-डाउन देना है। रघु राघवेंद्र के अलावा दो अन्य थ्रोडाउन एक्सपर्ट्स को भारतीय क्रिकेट टीम द्वारा हाल ही में नियुक्त किया गया है।

कोहली ने ‘Throw-Down Experts’ को सराहा

टीम में इन ‘थ्रो-डाउन स्पेशलिस्ट’ के बारे में बात करते हुए विराट कोहली कहते है-

“बहुत सारा श्रेय इन लोगों को जाता है, जिन्होंने हमें नियमित रूप से अभ्यास कराया और उनका योगदान अविश्वसनीय रहा है। आप लोगों को उनके नाम और चेहरे याद रखने चाहिए क्योंकि, हमारी सफलता के पीछे, इन लोगों ने बहुत प्रयास किया है।”

आपको बता दें, राघवेंद्र, National Cricket Academy से हैं और वही से BCCI में शामिल हुए है। वह भारत के पहले थ्रो-डाउन विशेषज्ञ थे। रिपोर्ट्स के अनुसार उन्होंने सचिन तेंदुलकर और MS धोनी को भी थ्रो-डाउन दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *