वसुंधरा राजे ने जेपी नड्डा से की मुलाकात , राजस्थान के CM के खिलाफ अपना रुख और मुस्कुराते हुए निकलीं बाहर।

वसुंधरा राजे ने जेपी नड्डा से की मुलाकात , राजस्थान के CM के खिलाफ अपना रुख और मुस्कुराते हुए निकलीं बाहर।

3 दिसंबर की जीत के बाद से राजस्थान में चल रही तमाम राजनीतिक उथल-पुथल और बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व पर राजनीतिक दबाव डाले जाने के आरोपों के बीच वसुंधरा और जेपी नड्डा के बीच यह मुलाकात हुई है.

विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद राजस्थान के मुख्यमंत्री पद को लेकर लगातार अटकलें चल रही हैं। इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया ने दिल्ली में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से करीब सवा घंटे तक मुलाकात की. पार्टी सूत्रों के मुताबिक, वसुंधरा राजे ने राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के सामने अपना पक्ष रखा.

दरअसल, राजस्थान में बीजेपी की जीत के बाद मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर असंतोष जारी रहने पर पूर्व अध्यक्ष वसुंधरा राजे ने गुरुवार शाम पार्टी नेता जेपी नड्डा से मुलाकात की. कांग्रेस नेता अपने बेटे दुष्यंत के साथ रात 8:06 बजे नड्डा के घर पहुंचे और करीब 9:32 बजे वहां से निकले.

राज्य के सियासी समीकरण पर बात

सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी अध्यक्ष नड्डा ने बैठक में वसुंधरा राजे से कहा कि राजस्थान में यह सफलता और जीत सामूहिक नेतृत्व में हासिल हुई है. इसी वजह से सरकार के रूपरेखा में भी इसकी झलक दिखेगी. मिली जानकारी के मुताबिक, इस दौरान वसुंधरा राजे ने जेपी नड्डा को राज्य के राजनीतिक हालात की जानकारी दी. पूर्व मुख्यमंत्री ने लोकसभा और सभी संभागों में पार्टी के प्रदर्शन पर भी अपने विचार व्यक्त किये. वसुंधरा राजे ने पार्टी अध्यक्ष को प्रत्येक लोकसभा सांसद के प्रदर्शन के बारे में भी जानकारी दी.

वसुंधरा राजे की भावी भूमिका

वसुंधरा राजे ने पार्टी नेताओं को यह भी बताया कि चुनाव की घोषणा के बाद उन्होंने कितने निर्वाचन क्षेत्रों में प्रचार किया और कितने में जीत हासिल की। सूत्रों ने बताया कि इस बैठक में पार्टी नेतृत्व ने वसुंधरा राजे की भविष्य की भूमिका के बारे में संकेत दिये.

वसुंधरा के चेहरे पर दिखा सुकून

हालाँकि उनके कर्तव्यों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी, लेकिन बैठक के बाद वसुंधरा के चेहरे पर राहत देखी जा सकती थी। वसुंधरा से मुलाकात के बाद बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की और बैठक का ब्यौरा दिया.

बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व पर दबाव

3 दिसंबर की जीत के बाद से राजस्थान में चल रही तमाम राजनीतिक उथल-पुथल और बीजेपी के वरिष्ठ नेतृत्व पर राजनीतिक दबाव डाले जाने के आरोपों के बीच वसुंधरा और जेपी नड्डा के बीच यह मुलाकात हुई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *