पीएम मोदी पर लालू का वार पड़ा भारी! कैसे जमानत रद्द करने की हुई सुरवात।

Lalu Yadav

यह स्पष्ट है कि लालू यादव अपने बयानों से न सिर्फ मीडिया की चर्चा बटोर रहे हैं, बल्कि बिहार और पूरे देश में विभिन्न विपक्षी दलों को एकजुट करने में भी सफल रहे हैं।

Patna

25 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में अपनी जमानत पर सुनवाई से ठीक पहले राजद अध्यक्ष लालू यादव ने सीबीआई की मंशा पर सवाल उठाया है। लालू यादव ने कहा कि जमानत को रद्द नहीं किया जा सकता क्योंकि सिर्फ सीबीआई उनसे असंतुष्ट है। सीबीआई को हाईकोर्ट की निर्णय में हस्तक्षेप करने से बचना चाहिए, क्योंकि यह निर्णय सभी नियमों और सिद्धांतों की जांच के बाद किया गया है।

याद दिला दें कि लालू यादव अभी चारा घोटाला से जुड़े दुमका, डोरंडा, चाईबासा और देवघर जैसे मामले में जमानत पर है. लालू यादव की खराब स्वास्थ्य स्थिति और उनकी बढ़ती उम्र के कारण कोर्ट ने उन्हें जमानत दी है। लेकिन लालू यादव के किडनी प्रत्यार्पण और कमजोर स्वासथ्य के बावजूद भी वे अपने सख्त राजनीतिक बयानों से अखबारों में छा गए हैं। हाल ही में पटना में हुई विपक्षी दलों की बैठक में उन्होंने कहा कि वह पूरी तरह से फिट है और अब पीएम मोदी को फिट करने वाला है।

PM मोदी के खिलाफ बयान के बाद जमानत रद्द करने का अभियान तेज हुआ

यह दावा किया जाता है कि पीएम मोदी के खिलाफ इसी बयान के बाद राजद सुप्रीमो की जमानत रद्द करने की बहस तेज हुई। यह मामला अंततः देश की सर्वोच्च अदालत में पहुँचा गया है, जहां पर सीबीआई ने दुमका, डोरंडा, चाईबासा और देवघर मामलों में मिली जमानत को चुनौती दी गई. अब देखना होगा कि कोर्ट इस मामले में क्या करता है। 25 अगस्त तक इंतजार करना होगा। लेकिन लालू यादव के बयान निश्चित रूप से अखबारों की सुर्खियां बटोर रहे हैं और बिहार और पूरे देश में विभिन्न विपक्षी दलों को एकजुट करने में सफल होते दिख रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *