Vivah Panchami 2023: कब मनाई जाएगी विवाह पंचमी? जानें इस दिन क्यों होती है शादी-ब्याह की मनाही

Vivah Panchami 2023 Date

हिंदू धर्म में विवाह पंचमी का बहुत महत्व है। मान्यता है कि इसी दिन प्रभु श्री राम और माता जानकी का विवाह संपन्न हुआ था। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, यह मार्गशीर्ष महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। हालांकि इस दिन को श्री राम के शादी सालगिरह के रूप में मनाया जाता है, लेकिन धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इसे विवाह के लिए शुभ नहीं माना जाता है। इसके अतिरिक्त आप अन्य शुभ कार्य संपन्न कर सकते है।

यह त्यौहार, किसी भी अन्य हिंदू शादी की तरह, कुछ दिन पहले शुरू होता है। सभी समारोह भक्तों द्वारा पूरी खुशी, समर्पण और भक्ति के साथ किए जाते हैं।
आइये जानते है, इस साल विवाह पंचमी 2023 तिथि, समय, शुभ मुहूर्त व अन्य रोचक तथ्य-

Vivah Panchami 2023 Date | विवाह पंचमी 2023 तिथि व शुभ मुहूर्त

प्रत्येक वर्ष मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को विवाह पंचमी का यह उत्सव मनाया जाता है। इस साल यह पर्व, रविवार 17 दिसंबर 2023 (Vivah Panchami 2023 Date) के दिन मनाया जाएगा। इस तिथि का शुभ मुहूर्त इस प्रकार से है-

पंचमी तिथि प्रारंभ– 16 दिसंबर 2023, रात्रि 08:00 बजे से

पंचमी तिथि समाप्त- 17 दिसंबर 2023, शाम 05:33 बजे

Significance of Vivah Panchami 2023 | विवाह पंचमी का धार्मिक महत्व

पौराणिक कथा के अनुसार विवाह पंचमी के दिन ही माता सीता और भगवान राम का विवाह हुआ था। इसलिए इस दिन माता सीता और श्री राम की पूजा करने की परंपरा है।

मान्यता है कि इस दिन पूजा करने से दांपत्य जीवन में खुशियां आती हैं। इस साथ ही विवाह में आने वाली सभी अड़चने भी दूर हो जाती है। यह उत्सव विशेष रूप से अयोध्या और नेपाल में आयोजित किया जाता है। इन स्थानों पर विवाह पंचमी बड़े पैमाने पर मनाई जाती है।

विवाह पंचमी के दिन विवाह क्यों है वर्जित?

विवाह पंचमी को एक उत्सव की तरह मनाया जाता है और इस दिन राम मंदिर में कई रंगारंग कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इसकी कुछ खास झलक, विशेषतौर पर अयोध्या में देखने को मिलती है। लेकिन जब बात हिंदू विवाह की आती है तो इस दिन को शादी के लिए अच्छा दिन नहीं माना जाता है।

इसका मुख्य कारण यह है कि राम और सीता के विवाह के बाद उनका जीवन कष्ट एवं बाधाओं से भर गया था. इसके साथ ही 14 वर्ष के वनवास के बाद भी माता सीता को जीवन में सुख-समृद्धि नहीं मिली थीं। ऐसा माना जाता है कि अगर इस दिन किसी लड़की की शादी होती है तो उसका पारिवारिक जीवन माता सीता की ही तरह समस्याओं से भरा होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *