Drishti 10 Starliner : Adani Defense का पहला स्वदेशी UAV ‘Drishti 10 Starliner’ नौसेना ने हुआ शामिल, नौसेना प्रमुख ने किया लॉन्च

Adani Defense का पहला स्वदेशी UAV Drishti 10 Starliner नौसेना ने हुआ शामिल

आज भारत की नौसैनिक शक्ति और भी मजबूत हुई। भारतीय नौसेना प्रमुख एडमिरल आर. हरि कुमार ने अदानी कंपनी द्वारा Drishti 10 Starliner ड्रोन का अनावरण किया। यह एक स्वदेशी अनमैन्ड एरियल व्हीकल (UAV) है, जिसे अदानी डिफेंस एंड एयरोस्पेस द्वारा हैदराबाद में कंपनी के एयरोस्पेस पार्क में बनाया गया है।

इस बनाने वाली अडानी कंपनी का कहना है कि यह ड्रोन हैदराबाद से गुजरात के पोरबंदर तक उड़ान भरेगा। वहां इसका इस्तेमाल नौसैनिक ऑपरेशन के लिए किया जा सकेगा। भारतीय नौसेना के चीफ ऑफ नेवल स्टाफ (CNS) एडमिरल आर. हरि कुमार के साथ ही 75 नौसेना कर्मियों की उपस्थिति में यह उद्घाटन समारोह संपन्न किया गया।

एडमिरल हरि कुमार ने की अडानी की सराहना

एडमिरल हरि कुमार ने भारतीय नौसेना की विशिष्ट आवश्यकताओं के अनुरूप रणनीतिक योजनाओं को तैयार करने के लिए अडानी की प्रतिबद्धता की सराहना की। उन्होंने रक्षा और सुरक्षा में आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने और भागीदारों और क्षमताओं के उनके प्रयासों की सराहना की।

“यह ICAR प्रौद्योगिकी और समुद्री वर्चस्व में आत्मनिर्भरता की भारत की खोज में एक महत्वपूर्ण अवसर और परिवर्तनकारी कदम है,” कुमार ने कहा। मानव रहित प्रणालियों के प्रति अदाणी की प्रतिबद्धता पिछले कई वर्षों में स्थानीय क्षमताओं को विकसित करने में व्यवस्थित रूप से काम करते हुए दिखाई दी है।”

अडाणी कर रहा है मानवरहित सिस्टम पर फोकस

अडानी मानव रहित सिस्टम विकसित करने पर काम कर रहा है। हाल के वर्षों में, कंपनी ने स्वदेशी लोगों की क्षमता निर्माण के लिए कई परियोजनाओं पर काम किया है। अडानी न केवल सिस्टम का निर्माण करता है बल्कि उसका रखरखाव और मरम्मत भी करता है। दृष्टि-10 स्टारलाइनर (Drishti 10 Starliner) के नौसेना में शामिल होने से भारत की नौसैनिक शक्ति मजबूत होगी।

भारतीय नौसेना और सेना ने दिया ऑर्डर

भारतीय नौसेना और भारतीय सेना दोनों ने अदानी डिफेंस और एयरोस्पेस से दो दृष्टि-10 ड्रोन का ऑर्डर दिया है। ANI प्रेस एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, यह जानकारी भारतीय सेना के उड्डयन महानिदेशालय लेफ्टिनेंट जनरल अजय सूरी ने दी है। उन्होंने कहा कि यह ऑर्डर उपग्रह संचार क्षमताओं से लैस ड्रोन की आवश्यकता को पूरा करने के लिए दिया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *