क्या आप भी इस्तेमाल करते है पब्लिक Wi-Fi? बरतें ये सावधानियां, वरना प्राइवेट डाटा हो सकता है हैक !

Do you also use public Wi-Fi? Take these precautions

अक्सर आप किसी होटल, मॉल, रेलवे स्टेशन या हवाई अड्डे जाते हैं, तो आपको हमेशा एक निःशुल्क वाई-फाई ज़ोन मिलेगा। इन फ्री वाई-फाई ज़ोन से हम ज्यादातर अपने मोबाइल फ़ोन और लैपटॉप को कनेक्ट करते है। इस प्रकार की वाईफाई रेंज को पब्लिक वाईफाई के नाम से भी जाना जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इन पब्लिक वाईफाई का प्रयोग आपके लिए खतरनाक हो सकता है?

आपको बता दें कि इन सार्वजनिक वाई-फाई नेटवर्क का उपयोग करके न केवल आपकी निजी जानकारी हैक की जा सकती है, बल्कि आप धोखाधड़ी का शिकार भी बन सकते हैं। इन सार्वजनिक Wi-Fi नेटवर्क को कई सुरक्षा अनुसंधान संस्थाओं ने असुरक्षित घोषित किया है। ऐसे में इन सार्वजनिक वाई-फाई क्षेत्रों में उपयोगकर्ताओं को ऑनलाइन बैंकिंग सेवाओं, व्यक्तिगत ईमेल आदि का उपयोग नहीं करना चाहिए।

क्यों खतरनाक है यह पब्लिक Wi-Fi?

चूंकि ऐसी मुफ्त वाई-फाई सभी के लिए उपलब्ध है, इसलिए इसे हर तरह से सुरक्षित नहीं माना जाता है। हैकर्स और साइबर अपराधियों के लिए सार्वजनिक वाईफाई पर अन्य लोगों के उपकरणों तक पहुंच बनाना बहुत आसान बन गया है।

विशेष रूप से, हैकर्स सार्वजनिक वाई-फाई पर उपयोगकर्ताओं की व्यक्तिगत जानकारी, मीडिया फ़ाइलें, बैंक खाते की जानकारी, ईमेल पते और पासवर्ड सहित सोशल मीडिया लॉगिन क्रेडेंशियल भी चोरी कर सकते है।

कब रिपोर्ट हुआ पहला Wi-Fi धोखाधड़ी मामला?

भारत में सार्वजनिक वाई-फाई के धोखाधड़ी का पहला मामला 2008 में सामने आया था। मुंबई पुलिस ने धमकी भरे ईमेल भेजने के आरोप में इंडियन मुजाहिदीन आतंकी संगठन के 20 आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है।

इंडियन मुजाहिदीन के आतंकवादियों ने प्रमुख मीडिया आउटलेट्स को धमकी भरे ईमेल भेजने के लिए मुंबई में सार्वजनिक वाई-फाई का इस्तेमाल किया। इसके अतिरिक्त, सार्वजनिक वाईफाई के कई अनधिकृत उपयोगों का पता चला है।

बताते चले कि दिल्ली, मुंबई,अहमदाबाद व चेन्नई समेत अन्य बड़े शहरों में आम Wi-Fi सुविधाएं उपलब्ध हैं। यूजर्स इन जगहों पर केवल अपना मोबाइल नंबर दर्ज करके फ्री में हाई स्पीड इंटरनेट का प्रयोग कर सकते है। हालाँकि, यह पूरी तरह से सुरक्षित नहीं है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *